Super TET 2019 Previous year Paper
01.

इनमें सबसे कमजोर (क्षीण) बल कौन सा है -

Answer:Option 1

Explanation:

प्रकृति में उपस्थित प्रत्येक दो बिन्दु द्रव्यमान एक दूसरे को आकर्षित करते हैं।

पिण्डों के इस आकर्षण बल को गुरुत्वाकर्षण बल कहते हैं।

Discuss in forum

02.

किसकी कमी से रतौंधी होती है -

Answer:Option 1

Explanation:

विटामिन A वसा में घुलनशील एक विटामिन है।

विटामिन A की कमी से रतौंधी (रात में कम दिखाई देने वाला) नामक रोग होता है।

विटामिन A गाजर, पपीता, आम, हरी पत्तेवाली सब्जियाँ, दूध आदि में पाया जाता है।

विटामिन A आँखों को स्वस्थ रखता है और बीमारियों से लड़ने की शक्ति प्रदान करता है।

Discuss in forum

03.

सरल रेखा पर गतिशील किसी कण की स्थिति x समय के साथ संबंध x = 6t2 - 5t के अनुसार बदलती है, जहाँ x मीटर में t सेकंड में है। कण का प्रारम्भिक वेग होगा -

Answer:Option 2

Discuss in forum

04.

यदि किसी पिण्ड की गतिज ऊर्जा अपने प्रारम्भिक मान का चार गुना हो जाए, तब नया संवेग होगा -

Answer:Option 3

Explanation:

वस्तुओं में गति के कारण उत्पन्न ऊर्जा को गतिज ऊर्जा कहते हैं।

वस्तु की गतिज ऊर्जा वस्तु की चाल (वेग) तथा द्रव्यमान पर निर्भर करती है।

जितनी अधिक चाल होती है गतिज ऊर्जा भी उतनी ही अधिक होगी।

वस्तु का द्रव्यमान ज्यादा होगा तो इसकी गतिज ऊर्जा भी ज्यादा होगी।

यदि किसी पिण्ड की गतिज ऊर्जा अपने प्रारम्भिक मान का चार गुना हो जाए, तब नया संवेग प्रारम्भिक मान का दुगुना होगा।

Discuss in forum

05.

‘राष्ट्रीय अस्थि विकलांग संस्थान’ स्थित है -

Answer:Option 3

Explanation:

‘राष्ट्रीय अस्थि विकलांग संस्थान’ कोलकाता में स्थित है।

राष्ट्रीय दृष्टि बाधितार्थ संस्थान देहरादून में, राष्ट्रीय मानसिक विकलांग संस्थान सिकन्दराबाद में तथा राष्ट्रीय श्रवण विकलांगता संस्थान मुम्बई में स्थित है।

Discuss in forum

06.

सृजनात्मक समस्या समाधान की वह अवस्था, जिसमें व्यक्ति समस्या पर ध्यान नहीं देता है, है -

Answer:Option 3

Explanation:

सृजनात्मक समस्या समाधान की वह अवस्था, जिसमें व्यक्ति समस्या पर ध्यान नहीं देता है, वह अवस्था उद्भवन कहलाती है।

इस अवस्था में व्यक्ति सूचना के बारे में चेतन रुप से चिंतन करना छोड़ देता है परन्तु अचेतन रुप से समस्या के बारे में सोचता रहता है।

उद्भवन काल में कोई नई सूचना, नया ज्ञान अथवा अनुभव भण्डार में जमा नहीं होता है।

Discuss in forum

07.

गैग्ने के अधिगम सोपान का सही क्रम है -

Answer:Option 3

Explanation:

गैग्ने ने सीखने को आठ वर्गो में वर्गीकृत करते हुए उन्हें एक अधिगम सोपानिकी के रुप में प्रस्तुत किया।

इस अधिगम सोपानिकी के आठ वर्गों में एक स्वस्पष्ट अंतर्निहित क्रम निहित है तथा अगला क्रम पिछले क्रम से उच्चतर अथवा जटिलतर होता जाता है।

  1. संकेत अधिगम
  2. उद्दीपक अनुक्रिया अधिगम
  3. श्रृंखला अधिगम
  4. शाब्दिक अधिगम
  5. बहु-विभेद अधिगम
  6. संप्रत्यय अधिगम
  7. नियम अधिगम
  8. समस्या - समाधान अधिगम

Discuss in forum

08.

प्राचीन अनुबंधन का सिध्दान्त किसने दिया -

Answer:Option 3

Explanation:

प्राचीन अनुबंधन सिध्दान्त का प्रतिपादन इवान पी. पावलोव ने किया था।

इन्होंने अपना प्रयोग कुत्ते पर किया।

पावलोव वास्तव में रूस के एक शरीर वैज्ञानिक थे जिन्होंने पाचन क्रिया की दैहिकी का गहन अध्ययन किया।

Discuss in forum

09.

‘ब्रेल लिपि’ के जनक हैं -

Answer:Option 2

Explanation:

ब्रेल लिपि विश्व भर में नेत्रहीनों के द्वारा पढ़ने और लिखनें में छूकर व्यवहार में लाया जाता है।

इस लिपि का आविश्कार वर्ष 1821 में एक नेत्रहीन फ्रांसीसी लेखक लुई ब्रेल ने किया था।

ये अलग - अलग अक्षरों, संख्याओं और विराम चिन्हों को दर्शाते हैं।

Discuss in forum

10.

मार्गरेट मीड के अनुसार वैयक्तिक भिन्नताओं के लिए सर्वाधिक महत्वपूर्ण कारक है -

Answer:Option 4

Explanation:

मार्गरेट मीड के अनुसार वैयक्तिक भिन्नताओं के लिए सर्वाधिक महत्वपूर्ण कारक सांस्कृतिक कारक है।

मार्गरेट मीड अमेरिका की सांस्कृतिक नृवैज्ञानिक थी।

सैध्दान्तिक रूप से मीड का विमर्श अपनी सहयोगी विद्वान और मित्र रूथ बेनेडिक्ट की ही तरह मनोवैज्ञानिक मानवशास्त्र की श्रेणी में आता है।

मानवशास्त्र की इस प्रवृत्ति को कल्चर एण्ड पर्सनॉलिटी के नाम से भी जाना जाता है।

मीड की दिलचस्पी व्यक्ति पर पड़ने वाले सांस्कृतिक प्रभावों के अध्ययन पर थी।

Discuss in forum

Page 1 Of 8
Current Affairs
Test
Classes
E-Book